होलिका दहन प्रयोग
तंत्र-बाधा (अभिचार-कर्म) निवारक प्रयोग

Black Magic

होलिका दहन की रात्रि में पहले होलिका का पूजन कर आयें.
उसके बाद लकड़ी के बाजौट (चौकी) पर लाल वस्त्र बिछाकर , उस पर तांबे के पात्र में जल भर कर , पान का एक पत्ता उसमें डाल कर रख दें | तांबे के पात्र को काले तिल की ढेरी पर स्थापित पर, सरसों के तेल का दीपक जला लें | फिर निम्न मंत्र की 21 माला जप कर तांबे के पात्र में रखे जल को अभिमंत्रित कर, पूरे घर में पान के पत्ते से छिड़काव करें |

जल की कुछ मात्रा घर का प्रत्येक सदस्य ग्रहण करे तो सभी प्रकार की तंत्र-बाधा शांत होती है |

मंत्र :-
"ॐ आं हृीं क्रों ऐन्ग " om aang ring krong aing

काले तिल, पान का पत्ता, दीपक उसी लाल कपडे में बांध कर शनिवार के दिन बहते जल में विसर्जित कर दें |

होलिका दहन प्रयोग
स्वास्थ्य लाभ हेतु

Asian Family

होलिका दहन के समय होली की 11 परिक्रमा करते हुए निम्न मंत्र का जप मन ही मन में करना चाहिए ----

मंत्र :---
देहि सौभाग्यमारोग्यं, देहि मे परमं सुखम्। रूपं देहि, जयं देहि, यशो देहि, द्विषो जहि॥

तत्पश्चात घर आकर उत्तर मुखी सफेद आसन पर सफेद वस्त्र पहन कर बैठ कर सामने शुद्ध घी का दिया और चमेली या चंदन की धूपबत्ती जला कर उपरोक्त मंत्र का 9 माला जाप करें । स्फटिक या रुद्राक्ष या कर माला पर जाप करें।

होली के बाद नित्य प्रातः इस मंत्र का कम से कम 11 बार अवश्य जप करें | सभी प्रकार के रोग में तीव्रता के अनुसार शनै शनै लाभ प्राप्त होने लगेगा

होलिका दहन प्रयोग
धन- प्राप्ति के लिए

money

आर्थिक कष्ट दूर करने के लिए होली वाले दिन कमलगट्टा की माला लेकर होली की परिक्रमा करते हुए निम्न मंत्र को 108 बार जप करें---

मंत्र :-

"ॐ श्रीं हृीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद: प्रसीद: श्रीं हृीं श्रीं ॐ महालक्ष्म्ये नमः |"
om shreem reem shreem kamle kamlalaye praseed praseed shreem reem shreem om mahalakshmaye namah

मंत्र जप पूर्ण होने पर माला पहन कर होली के समीप गौ-घृत का दीपक जलाकर घर लौट आएँ।
घर आकर 9 माला उपरोक्त मन्त्र की करें. लाल वस्त्र, लाल आसन, गुलाब खुशबु धूपबत्ती, गौ घृत दीपक, पूर्व मुखी बैठ कर कमलगट्टे की माला से जाप करना है .
फिर एक माला नित्य इस मंत्र की करते रहें | जल्दी ही धन आगमन शुरू होकर आर्थिक कष्ट समाप्त होने के मार्ग खुलेंगे।

होलिका दहन प्रयोग 

holika dahan

होलिका दहन की रात्रि में, दहन के समय घर का प्रत्येक सदस्य होलिका में शुद्ध घी से भिगोकर 2 लौंग, 1 बताशा और 1 पान का पत्ता (डंडी सहित) अर्पित करे । होली की 11 परिक्रमाएँ करें, 1 सूखा नारियल भी अर्पित करें, सम्भव हो तो परिक्रमा करते समय नये अनाज (जौ या गेहूँ के दाने) भी बाली सहित होलिका अग्नि को समर्पित करते रहें, कुंकुम, गुलाल और प्रसाद आदि अर्पित करें |

घर का प्रत्येक सदस्य शुद्ध घी में भिगोकर 2 लौंग,1 बताशा, और पान का एक पत्ता, और एक सूखा नारियल अर्पित करें, और फिर 11 परिक्रमाएँ होली की घर के सभी सदस्य करें | तत्पश्चात अपन इच्छित प्रयोग को सफल करने का निवेदन करें. यह मूल प्रयोग है|

 

दुर्भाग्य से मुक्ति और सौभाग्य प्राप्ति चाहिए ?