दुर्भाग्य से मुक्ति और सौभाग्य प्राप्ति चाहिए ?